Chemical Earthing क्या होती है ? उपयोग | फायदे

Chemical Earthing क्या होती है ? उपयोग | फायदे

Chemical Earthing क्या होती है ? उपयोग | फायदे

Chemical Earthing

आज के इस टॉपिक में हम Chemical Earthing के बारे में समझेंगे जिसमे हम देखेंगे की Chemical Earthing क्या होती है इसको किस प्रकार बनाया जाता है तथा इसको बनाने के लिए किस प्रकार के Chemical का उपयोग किया जाता है और इसके बाद हम देखेंगे की इसके क्या उपयोग होते है और इसको दूसरी विधियों की जगह केमिकल अर्थिंग को उपयोग करने से क्या – क्या लाभ होते है इन सभी बातो को हम Detail में समझेंगे | तो चलिए समझना शुरू करते है की Chemical Earthing क्या होती है |

किसी भी डिवाइस को Fault जैसी स्थति से बचाने के लिए हमें Earthing की जरुरत्त होती है इसलिए हम किसी भी इलेक्ट्रिकल डिवाइस को Earthing की मदद से जमींन से कनेक्ट करते है जिससे की जब उस डिवाइस के अन्दर Fault होता है तो उसकी इलेक्ट्रिकल एनर्जी जमींन के अन्दर चली जाती है और इस प्रकार हमारा डिवाइस सुरक्षित रहता है इसके लिए अलग – अलग विधियों का उपयोग किया जाता है जिसमे से हम Chemical Earthing के बारे में आज पड़ेंगे |

Chemical Earthing एक ऐसी विधि है Earthing की जिसमे Earthing के लिए Chemical का उपयोग किया जाता है इसके लिए परम्परागत या सामान्य उपयोग होने वाले कोयले और नमक के मिश्रण का उपयोग न करके Chemical का उपयोग किया जाता है |

इसे बनाने के लिए जमींन के अन्दर एक गड्डा खोद लिया जाता है और उसके अन्दर एक पाइप डाल दिया जाता है और उसके अन्दर Chemical भर दिया जाता है अब इस पाइप के अन्दर एक इलेक्ट्रोड लगा दिया जाताहै  इलेक्ट्रोड  से एक तार  कनेक्ट करके उसे निकाल लिया जाता है और इस तार को डिवाइस से जोड़ दिया जाता है इस प्रकार Chemical Earthing सिस्टम बनकर तैयार हो जाता है जो की High प्रतिरोध वाली मिट्टी को भी अच्छे रिजल्ट के लिए उपयोगी बनाता है |

Chemical Earthing के लिए लिए उपयोग होने वाले Chemical में मुख्य रूप से दो तरह के Chemical प्रमुख होते है जिनमे से एक होता है Bentonite पाउडर जो की Brown कलर का होता है और इसका उपयोग Dry जगहों पर ज्यादातर किया जाता है  तथा दूसरा होता है कार्बन पाउडर जो की काले रंग का होता है और सामान्य परिस्थियों के लिए यही सबसे ज्यादा उपयोगी होता है | इस पाउडर को लेकर इसको इलेक्ट्रोड के उपर डाल दिया जाता है |

किसी भी स्थान की मिट्टी के लिए उस मिट्टी की Dissipation कैपेसिटी को उसकी Soil Resistivity कहा जाता है और अगर किसी स्थान की Soil Resistivity बहुत ज्यादा है तो इसका मतलब है की वो मिट्टी करंट के लिए ज्यादा Resistance Produce करेगी  | और इस प्रकार आजकल इस Soil Resistivity को बड़ाने के लिए Chemical का उपयोग किया जाता है | जिसे Chemical Earthing कहा जाता है | अब हम समझते है की इसके लिए  क्या क्या मटेरियल उपयोग होते है |

Chemical Earthing के लिए मटेरियल

जब हम Chemical Earthing का उपयोग करते है तो इसके कई तरह के मटेरियल का उपयोग किया जाता है जिनसे मिलकर यह पूरा Earthing सिस्टम तैयार होता है जिसमे से कुछ मटेरियल इस प्रकार है –

1 . सबसे पहला इसके अन्दर इलेक्ट्रोड होता  है जिसको जमींन के अन्दर केमिकल में रखा जाता है |

2 . केमिकल होता है जिसके लिए कार्बन या फिर Bentonite का उपयोग किया जाता है |

3 . एक तांबे के तार का उपयोग भी किया जाता है |

4 . इनके अलावा G. I. नट , Funnel आदि का उपयोग किया जाता है |

Chemical Earthing के उपयोग

Chemical Earthing का उपयोग ज्यादातर घरों के अन्दर घरेलू उपकरणों को Fault जैसी कंडीशन से बचाने के लिए किया जाता है इसके अलावा इसका उपयोग उद्योगों के उपकरणों को सुरक्षित रखने के लिए भी किया जाता है साथ ही साथ कुछ ऐसे भी  स्थान होते है जहा सिर्फ केमिकल अर्थिंग का ही उपयोग होता है और ऐसे इलाके ज्यादातर पत्थर वाले और पहाड़ी इलाके होते है जो की Dry होते है अर्थात इन इलाकों में नमी की कमी होती है और यहाँ पर केमिकल अर्थिंग बहुत ज्यादा उपयोगी होती है |

इसके अलावा Chemical Earthing का उपयोग  Lightning अरेस्टर के लिए भी किया जात्ता है  जिनका उपयोग पॉवर सिस्टम के प्रोटेक्शन के लिए किया जाता है | इस प्रकार घरों और उद्योगों में Chemical Earthing का उपयोग किया जाता  है | लेकिन अब हम समझते है की इसका उपयोग करने से क्या – क्या  फायदे होते है और इसका उपयोग क्यों करना चाहिए |

Chemical Earthing के फायदे

इस Chemical Earthing का उपयोग करने से बहुत से फायदे होते है जैसे की –

1 . यह Maintenance फ्री होती है अर्थात इसके लिए Maintenance की आवश्यकता नहीं होती है |

2 . यह कम पानी वाले स्थानों जैसे की Dry Places पर भी अच्छे से काम करती है इसलिए Dry Places पर बहुत ज्यादा उपयोगी होती है |

3 . यह लम्बे समय तक टिकती है इसलिए बार – बार अर्थिंग बदलने की जरुरत नहीं होती है |

इस प्रकार इसके उपयोग के बहुत से फायदे होते है |

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.