किरचॉफ के धारा और voltage के नियम

किरचॉफ के धारा और voltage के नियम

किरचॉफ का नियम क्या है पहला नियम धारा का और दूसरा voltage का और इसे कब दिया Junction या संधि ,loop ,branch या साखा किसे कहते है किरचॉफ का पहला नियम समझने के लिए सबसे पहले आपको तीन चीजें समझना है संधि  junction एवं शाखा या branch नीचे परिभाषा पढ़ें किरचॉफ एक जर्मन  भौतिक विज्ञानी थे जिन्होंने 1845 में अपने नियमों की सेट को दिखाया जो करंट या विद्युत धारा और विद्युत वाहक बल के लिए थे

वास्तव में किरचॉफ के पहले और दूसरे नियम ओम के नियम पर ही आधारित हैं या कह सकते हैं कि यह उस ओम के नियम के अनुप्रयोग है जिन्हें जटिल परिपथों को सॉल्व करने के लिए बनाया गया

शाखा क्या है किरचॉफ के नियम के लिए समझें विद्युत परिपथ का वह भाग जहां पर विद्युत धारा का मान स्थिर रहता है उस भाग को शाखा कहते हैं

विद्युत परिपथ का वह बिंदु जहां पर तीन या तीन से अधिक शाखाएं मिलती है उस बिंदु को संधि कहते हैं इसे node और junction भी कहते है

किरचॉफ का पहला धारा नियम

विद्युत परिपथ या इलेक्ट्रिक सर्किट में संधि बिंदु या node पर मिलने वाली सभी विद्युत धाराओं का बीज गणितीय योग शून्य होता है

किरचॉफ का नियम

संधि पर सभी धाराओं का बीज गढतीय योग शून्य क्यों होता है इसका कारण हैं कि संधि पर आने वाली विद्युत धाराओं का योग और संधि से जाने वाली विद्युत धाराओं का योग बराबर होता है या ΣI=0

इस किरचॉफ के current के नियम के अनुसार कोई विद्युत धारा संधि की तरफ आती है तो उसका मान धनात्मक मानते है और संधि से दूसरी तरफ जाने वाली धारा का मान ऋणात्मक लेते है यह नियम संधि पर लागू होता है इसलिए किरचॉफ के पहले नियम को संधि का नियम कहते है और धारा नियम भी

यानी जितना total current node या संधि पर आता है उतना ही यहां से निकल जाता है इसलिए यहां विद्युत धारा का मान शून्य होता है

किरचॉफ का दूसरा वोल्टेज नियम

बंद परिपथ में वोल्टेज का बीज गणितीय योग शून्य होता है ये हम कह सकते हैं संधि पर वोल्टेज का बीज गणितीय जो सुनने होता है वोल्टेज को विद्युत वाहक बल भी कह सकते हैं

इस किरचॉफ के नियम के अनुसार पूरे बंद परिपथ में विद्युत वाहक बल शून्य होता है अब विद्युत वाहक बल परिपथ में 2 रूप में हो सकते हैं या तो कोई बैटरी लगी हो या प्रतिरोध और धारा का गुणनफल क्योंकि ओम के नियम के अनुसार प्रतिरोध और विद्युत धारा का गुणनफल विद्युत वाहक बल यानी वोल्टेज होता है

किरचॉफ का वोल्टेज नियम

तब हम दूसरे शब्दों में कह सकते हैं कि किरचॉफ के दूसरे नियम के अनुसार किसी बंद परिपथ के अलग अलग भागों में प्रवाहित हो रही विद्युत धाराओं और उसके संगत प्रतिरोधों के गुणनफल का बीज गणितीय योग और उस परिपथ में उपस्थित विद्युत वाहक बलों का बीज गणितीय योग समान होते है

किरचॉफ का धारा और voltage के दोनों नियम आपको समझ आये हो तो इस page को शेयर जरूर करें नीचे बटन है और ज्यादा जानने के लिए और कोई प्रश्न हो तो comment में लिखें

Related

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *