किसी अनंत लंबाई के सीधे धारावाही चालक के कारण चुंबकीय क्षेत्र –

इस article मे हम एम्पीयर के महत्वपूर्ण अनुप्रयोगों में से एक किसी अनंत लंबाई के सीधे धारावाही चालक के कारण चुंबकीय क्षेत्र की गणना के बारे में सरल व आसान भाषा में समझने का प्रयास करेंगे

माना हम एक अनन्त लम्बाई का एक चालक तार लेते है जब इस तार मे विधुत धारा प्रवाहित की जाती है तो तार के चारो ओर चुंबकीय क्षेत्र उत्पन्न हो जाता है हमे चालक तार के किसी बिंदु पर चुंबकीय क्षेत्र की गणना करनी है इसके लिए हमे माना किसी अनन्त लम्बाई से उत्पन्न किये गए चुंबकीय क्षेत्र को ज्ञात करने अर्थात गणना के लिए किसी अक्ष पर उपस्थित बिंदु O को केंद्र मान लेते है और O से r दुरी पर गोलीय मार्ग पर एक बिंदु p स्थित है

एम्पीयर के नियम से हम जानते है – 

∮B.dl   = μ₀i    ……..(1)

B व dl की दिशा एक ही है तो ( θ = 0)

∮B.dl   =  ∮B.dl cosθ

∴ cosθ = 1

        =  ∮B.dl 

        =  B∮dl 

∴ ∮dl = 2πr

∮B.dl = B(2πr) ……(2)

समी. 1 व 2 से –

 B(2πr) = μ₀i

B = μ₀i/2πr

इस सूत्र की सहायता से हम अनन्त लम्बाई के सीधे धारावाही चालक के कारण उत्पन्न चुम्बकीय क्षेत्र ज्ञात कर सकते है 

I hope आप को इस article की information pasand आयी होगी इस information को आप अपने दोस्तो के साथ share करे और नीचे कॉमेंट बॉक्स मे कॉमेंट करके बताओ आपको ये ये article कैसा लगा

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.